युवाओं को शिक्षा व रोजगार से वंचित रखना सरकार का मकसद : Bhupendra Singh Hudda

Spread the News

पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि सरकार ने बेरोजगारी व भ र्तियों में भरष्टाचार के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। नेता प्रतिपक्ष आज विभिन्न सामाजिक कार्यक्र मों में शिरकत करने पहुंचे थे। उसके बाद उन्होंने कहा कि हरियाणा के प्रतिभावान युवा भर्तियां लटकने की वजह से घोर निराशा में डूबते जा रहे हैं। बीजेपी-जेजेपी सरकार प्रदेश के शिक्षा तंत्र को पूरी तरह बर्बाद करने की नीति पर आगे बढ़ रही है। इस सरकार का मकसद है कि हरियाणा के युवाओं को शिक्षा और रोजगार से वंचित रखा जाए। हुड्डा ने बताया कि उनकी सरकार के दौरान हरियाणा को शिक्षा का हब बनाने की नीति तैयार की गई थी। इसलिए कांग्रेस कार्यकाल के दौरान प्रदेश में 27 यूनिवर्सिटीज, सैंकड़ों कॉलेज, इंजीनियरिंग, मेडिकल, बीएड, जेबीटी कॉलेज, प्रोफेशनल कॉर्सिज इंस्टीट्यूट्स, आईटीआईज, मॉडल स्कूल, किसान मॉडल स्कूल, आरोही मॉडल स्कूल खोले गए थे।

उन्हीं की सरकार के दौरान आईआईटी, आईआईएम, एम्स जैसे संस्थान हरियाणा को मिले। लेकिन बीजेपी ने सत्ता में आने के बाद पूरे शिक्षा तंत्र का बंटाधार कर दिया। नए स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी बनाया तो दूर सरकार कांग्रेस कार्यकाल में बने संस्थानों में टीचर, स्टाफ व सुविधाएं तक मुहैया नहीं करवा पा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री ने बताया कि उनकी सरकार के दौरान सिर्फ शिक्षा महकमे में 1 लाख से ज्यादा सरकारी नौकरियां दी गर्इं थीं। इसमें जेबीटी, पीजीटी से लेकर लेक्चरर, प्रोफेसर, गेस्ट टीचर, कंप्यूटर टीचर शामिल हैं। लेकिन आज अलगअलग महकमों में लगभग 4 लाख पद खाली पड़े हुए हैं। फिर भी सरकार भर्ती करने का नाम नहीं ले रही। इसीलिए हरियाणा में पूरे देश के मुकाबले सर्वाधिक बेरोजगारी है। बेरोजगारी के विरोध में हरियाणा के युवा आंदोलनरत हैं।

हुड्डा ने कहा कि कांग्रेस कार्यकाल के दौरान उन्होंने इस ठेकेदारी प्रथा पर अंकुश लगाने की नीति बनाई थी, लेकिन अब सरकार खुद ठेकेदार बनके कम वेतन में कच्ची भर्तियां कर युवा प्रतिभाओं का शोषण कर रही है। कच्ची भर्तियों में भी जमकर भरष्टाचार हो रहा है और और रिश्वत लेकर नौकरियां दी जा रही हैं। इस अवसर पर उनके साथ विधायक जगबीर मलिक, विधायक बलबीर बाल्मीकि, पूर्व विधायक जयतीर्थ दहिया, मेयर निखिल मदान, सुरेन्द्र शर्मा, सुरेन्द्र दहिया, जोगेंद्र दहिया, बिजेंद्र आंतील, कुलदीप वत्स, कर्नल रोहित मोर, कुलदीप पहलवान, सतीश चेयरमैन, दीपक बाल्मीकी, मेक्सिन ठेकेदार, बिजेंद्र गोखी, अनूप मलिक आदि मौजूद रहे।