BREAKING: Sunil Jakhar के Congress को अलविदा कहने के बाद Navjot Sidhu ने किया ट्वीट, बोले- बेशकीमती है जाखड़, पार्टी को उन्हें नहीं गंवाना चाहिए

Spread the News

चंडीगढ़ः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ ने आज पार्टी को अलविदा कह दिया है। इसी बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिद्धू ने ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को सुनील जाखड़ को गंवाना नहीं चाहिए। उन्होंने पार्टी को नसीहत देते हुए कहा कि वह पार्टी के लिए सोने जैसे बेशकीमती है। किसी भी मतभेद को बैठकर सुलझाया जा सकता है।

बता दें कि, सुनिल जाखड़ ने पार्टी को अलविदा कह दिया है। जाते-जाते उन्होंने पार्टी पर जमकर भड़ास निकाली और अपनी नराजगी खुलकर जाहिर की। उन्होंने कहा कि मैं जाते-जाते कुछ बाते कहना चाहता हूं। कल मैंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का भाषण सुना। लेकिन कल चिंतन शिविर का प्रोग्राम वह बस  एक दिखावा था। कांग्रेस का यह शिविर चिंता का शिविर होना चाहिए था, लेकिन इसमें कोई चिंता दिखाई नहीं दी। पाटी  6 गुटों में बंट चुकी है। कांग्रेस की यह स्थिति पार्टी और बड़े नेताओं की वजह से है।

 विधानसभा चुनाव की हार का हरीश रावत को ठहराया जिम्मेदार

सुनील जाखड़ ने पंजाब सहित 5 राज्यों में विधानसभा चुनावों पर कहा कि उत्तराखंड और पंजाब में हार का कारण क्या रहा ये कोई बता पाएगा? बड़े नेता कांग्रेस को कैसे बचाएंगे? जाखड़ ने आगे पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रभारी हरीश रावत को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उनकी वजह से कांग्रेस की हार हुई है। लोगों ने पंजाब के हक में मतदान किया है।

अंबिका सोनी पर जमकर बरसे सुनिल जाखड़

जाखड़ ने कांग्रेस नेत्री अंबिका सोनी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सोनी ने हिंदू और सिख भाईचारे में बड़ी फूट डाली थी। उन्होंने हिदूओं को बदनाम किया है।सोनिया गांधी की सलाहकार ने पंजाब में दरार डालने का काम किया। उन्होंने इंदिरा गांधी के खिलाफ भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया था। दिल्ली में बैठे उन लीडरों पंजाब कांग्रेस का काम खराब कर दिया, जिन्हें पंजाब पंजाबियत बारे कुछ भी नहीं पता। उन्होंने कहा कि अगर  सुनील की वजह से कांग्रेस को नुकसान हुआ तो सुनील को निकाला क्यों नहीं गया? कांग्रेस को नुकसान कुछ चापलूस लोगों की वजह से हुआ।

पार्टी को कहा ‘Goodbye’

सुनील जाखड़ ने आगे कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी बहुत ही अच्छे इंसान है। उनकी वजह से मैं कांग्रेस में रहा, लेकिन राहुल को दुश्मन और दोस्त की पहचान नहीं है। उन्हें पार्टी की कमान अपने हाथ में लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मेरा नाता कांग्रेस से तभी टूट गया था जब पार्टी की तरफ से मुझे नोटिस आया था। मेरे पास कोई पद थे ही नहीं जो मेरे से ले लिए गए। जाखड़ ने यूपी विधानसभा चुनाव पर कहा कि जाति के नाम पर वोट डालने थे तो यूपी में कांग्रेस क्यों हारी?  जाखड़ ने आखिर में कांग्रेस को ‘GoodBye’ कह दिया।

सोशल मीडिया से हटाया कांग्रेस का लोगो

बता दें कि, फेसबुक पर लाइव आने से पहले सुनिल जाखड़ ने सोशल मीडिया से कांग्रेस का नाम और लोगो हटा दिया था। गौरतलब है कि हाल ही में कांग्रेस ने सुनिल जाखड़ पर कार्रवाई करते हुए पार्टी के सभी पदों से हटा दिया गया है। जाखड़ को 2 साल के लिए सस्पेंड करने की सिफारिश भी सोनिया गांधी के पास पेंडिंग पड़ी है।