Scientists

वैज्ञानिकों के पास पुख्ता सबूत, वायरस पैदा हुआ नेचरली

आजकल अमेरिका चीन के खिलाफ अभियान चलाने में जुटा है, इसमें एक प्रमुख मुद्दा है कि वायरस चीन स्थित वूहान की लैब में तैयार किया गया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सहयोगी लगातार यह आरोप लगा रहे हैं। लेकिन इसके उलट अमेरिका के वैज्ञानिक ज़ोर देकर कह रहे हैं कि यह वायरस नेचरली पैदा हुआ। इसके लिए वे अपनी रिसर्च का हवाला भी दे रहे हैं। 

स्टैनफोर्ड मेडिकल स्कूल में संक्रामक रोगों के प्रोफेसर डॉ.रॉबर्ट शेफर ने एबीसी न्यूज को बताया कि यह मानने का कोई कारण नहीं है कि यह वायरस प्रयोगशाला में तैयार किया गया हो। वह कहते हैं कि प्रकृति में कई तरह की चीज़ें मौजूद होती हैं जो इस प्रकार की महामारी का कारण बन सकती हैं। 

इसके साथ ही डॉ. रॉबर्ट गैरी जो कि ट्यूलन स्कूल ऑफ मेडिसिन में प्रोफेसर हैं, वह भी अमेरिका सरकार के दावों को खारिज कर रहे हैं। वे कहते हैं कि ऐसा कोई प्रमाण या संकेत नहीं है कि कोविड-19 जैविक हथियार के तौर पर बनाया गया हो। वह कहते हैं कि एक विशेष तरह का म्यूटेशन इस वायरस को इतना खतरनाक व घातक बना रहा है। 

गैरी के मुताबिक शुरुआत में कुछ लोगों का अनुमान था कि शायद इस वायरस को लैब में तैयार किया गया हो, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं बिल्कुल नहीं है। गैरी के अलावा अन्य वैज्ञानिक भी मानने को तैयार नहीं हैं कि वायरस को चीन ने अपनी लैब में बनाया है। इसके बावजूद अमेरिकी नेताओं की आंखें नहीं खुल रही हैं।
(साभार—चाइना रेडियो इंटरनेशनल ,पेइचिंग)