Sajjan Kumar

सिख दंगों के मामले में दोषी सज्जन कुमार को SC से नहीं मिली राहत

नई दिल्लीः तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद भड़के 1984 के दिल्ली सिख दंगों के एक मामले में उम्रकैद सजायाफ्ता कांग्रेस के पूर्व सांसद सज्जन कुमार को शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली और न्यायालय ने उन्हें जमानत देने से इनकार कर दिया। पचहत्तर वर्षीय दिल्ली कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे पूर्व सांसद सज्जन कुमार को सिख विरोधी दंगों के एक मामले में आजीवन कारावास की सजा मिली हुई है और वह मंडोली जेल में बंद हैं।
 
शीर्ष न्यायालय ने आज उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए जमानत देने से इंकार कर दिया और कहा कि उनकी जमानत याचिका पर न्यायालय में सुचारु रुप से कामकाज शुरु होने पर ही सुनवाई की जा सकती है। सज्जन कुमार ने अपनी उम्र और खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर मार्च में ही जमानत का अनुरोध किया था। न्यायालय ने उन्हें अस्पताल में रखे जाने का आग्रह भी नहीं स्वीकार किया।

तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की 1984 में उनके सुरक्षा गाडरें के हत्या के बाद दिल्ली समेत देश भर में  सिखों के खिलाफ हिंसा भड़की थी। इन्हीं दंगों के एक मामले में पिछले साल दिल्ली उच्च न्यायालय की खंडपीठ ने निचली अदालत के आदेश को पलटते हुए कांग्रेस नेता सज्जन कुमार और अन्य को दोषी करार दिया था। इस मामले में सज्जन कुमार को उम्रकैद मिली थी। सुप्रीम कोर्ट ने सज्जन कुमार को जमानत देने से इनकार करते हुए कहा कि उनकी चिकित्सा रिपोर्ट में कहा गया है कि उनके स्वास्थ्य को देखते हुए फिलहाल उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है।