Lord Krishna

जानिए जन्माष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्ण जी को क्यों पहनाए जाते है पीले रंग के वस्त्र

जन्माष्टमी आज पुरे भारत में बहुत उत्साह और धूमधाम से मनाई जा रही है। इस दिन सभी भगवान श्री कृष्ण जी की पूजा करते है। इस दिन भगवान श्री कृष्ण जी के मन पसंद के पकवान बनाए जाते है और उन्हे सजाया जाता है। इस दिन भगवान श्री कृष्ण जी को पीले रंग के कपड़े पहनाए जाते है और कुछ लोग भी इस दिन पीले कपड़े पहनना पसंद करते है। क्या आप जानते है के भगवान श्री कृष्ण जी को इस दिन पीले कपड़े क्यों पहनाए जाते है। इसका पीछे का क्या महत्व है। तो आइए जानते है इसके पीछे की वजह को। 

भगवान श्रीकृष्ण और पीला रंग :- दरअसल, भगवान श्रीकृष्ण को पीतांबर धारी भी कहा जाता है। पीतांबर धारी यानि पीत :पिला, अम्बर:वस्त्र, पीले रंग के कपड़े पहनने वाला। यही वजह है कि जन्माष्टमी पर भगवान श्रीकृष्ण को ज्यादातर पीले रंग के कपड़े पहनाए जाते हैं।

भगवान विष्णु भी होते हैं प्रसन्न :- भगवान विष्णु भी पीले वस्त्र ही धारण करते हैं इसलिए जन्माष्टमी के अलावा गुरुवार के दिन पीले कपड़े पहनना शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इससे भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं। साथ ही गुरुवार को पीले कपड़े पहनने से शादी में आ रही अड़चनें भी दूर होती हैं।

पीले रंग का धार्मिक महत्व :- बृहस्पति का प्रधान पीला रंग मन को शांत और नकारात्मक विचारों को दूर रखने में मदद करता है। साथ ही यह रंग आंखों के अलावा ब्लड सर्कुलेशन, पाचन तंत्र को भी प्रभावित करता है।

पीली चीजों का दान शुभ :- यही नहीं, इस दिन पीले कपड़े, पीले फल व पीला अनाज दान दान करना भी शुभ माना जाता है। ऐसे माना जाता है कि इससे भगवान विष्णु व माता लक्ष्मी प्रसन्न होते हैं।

पीले चंदन के तिलक का महत्व :- जन्माष्टमी पर पीले चंदन या केसर में गुलाबजल मिलाकर तिलक लगाएं। आप चाहे तो रोजाना इसका तिलक लगा सकते हैं। इससे मन को शांति मिलती हैं और घर में सुख-समृद्धि भी आती है।