Retirement

हरियाणा में 2 आईपीएस डॉ. केपी सिंह, केके मिश्रा हुए रिटायर

चंडीगढ़: हरियाणा में मंगलवार को दो आईपीएस अफसर डॉ. केपी सिंह और केके मिश्रा रिटायर हो गए। उनके रिटायरमेंट होते ही दो एडीजीपी मोहम्मद अकील और डॉ. आरसी मिश्रा को पदोन्नति देकर डीजीपी बना दिया गया है। उधर, दिल्ली से एडीजीपी आलोक मित्तल लौटेंगे। उनका सीआईडी चीफ बनना तय है क्योंकि मौजूदा सीआईडी चीफ एडीजीपी अनिल राव आगामी 31 जुलाई को रिटायर होंगे। हरियाणा कैडर के 1985 बैच के डॉ. केपी सिंह स्टेट विजिलेंस ब्यूरो के महानिदेशक पद से रिटायर हुए हैं। वे पुलिस के विभागाध्यक्ष यानी पुलिस महानिदेशक भी रह चुके हैं। इनेलो शासनकाल में वे सीआईडी चीफ भी रह चुके हैं। पढ़ने-लिखने वाले डॉ. केपी सिंह ने कई किताबें लिखी हैं। हरियाणा कैडर के ही 1987 बैच के केके मिश्रा हरियाणा पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के प्रबंध निदेशक पद से रिटायर हुए हैं। होम गार्ड्स और सिविल डिफेंस के कमांडेंट जनरल पीआर देव आगामी 30 सितंबर को रिटायर हो जाएंगे।

- मोहम्मद अकील, डॉ. आरसी मिश्रा बने डीजीपी: 
हरियाणा कैडर के 1989 बैच के आईपीएस मोहम्मद अकील और डॉ. आरसी मिश्रा को मंगलवार को दोडीजीपी के रिटायर होते ही पदोन्नति देकर डीजीपी बना दिया गया है। हालांकि 1989 बैच के आईएएस अफसरों को प्रधान सचिव से अतिरिक्त मुख्य सचिव पद पर पदोन्नति पहले ही हो चुकी है मगर सररकार ने मौखिक तौर पर फैसला किया था कि जब तक डीजीपी के पद रिक्त नहीं होते तब तक पदोन्नति नहीं होगी। 

- आलोक मित्तल बनेंगे सीआईडी चीफ:
हरियाणा कैडर के 1993 बैच के आईपीएस आलोक मित्तल केंद्र से प्रतिनियुक्ति से लौटेंगे। वे एनआईए में तैनात हैं। एडीजीपी आलोक मित्तल एनआईए के प्रवक्ता भी हैं। कई साल से केंद्र में प्रतिनियुक्ति में हैं। उनकी गिनती शानदार अफसरों में होती है। जब केंद्र ने हरियाणा सरकार ने करीब चार महीने पहले आलोक मित्तल की केंद्र में प्रतिनियुक्ति की अवधि बढ़ाने के लिए पूछा तो हरियाणा सरकार ने लिख दिया कि उसे उनकी जरूरत है। मौजूदा सीआईडी चीफ अनिल राव चूंकि आगामी 31 जुलाई को रिटायर हो रहे हैं इसलिए सरकार में चर्चाहै कि आलोक मित्तल को सीआईडी चीफ बनाया जाना तय है। हालांकि वे हरियाणा में जिला पुलिस अधीक्षक के तौर पर रहे हैं, सीबीआई में पुलिस अधीक्षक रहे हैं और केंद्र में कई पदों पर आसीन रहे हैं। उनके 30 जून को ही लौटने की उम्मीद थी। 

- पीके अग्रवाल बने स्टेट विजिलेंस ब्यूरो के महानिदेशक:
हरियाणा सरकार ने मंगलवार को वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के तबादला आदेश जारी किए। गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन ने ये आदेश जारी किए। आदेश के मुताबिक 1988 बैच के डीजीपी पीके अग्रवाल को स्टेट विजिलेंस ब्यूरो का महानिदेशक नियुक्त किया है। वे अभी तक डीजीपी क्राइम थे। पदोन्नति मिलते ही मोहम्मद अकील को डीजीपी क्राइम और एससीआरबी मधुबन के निदेशक का जिम्मा सौंपा गया है। वे अभी तक एडीजीपी मुख्यालय और गुरुग्राम पुलिस आयुक्त थे। डॉ. आरसी मिश्रा को हरियाणा पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के प्रबंध निदेशक के साथ-साथ एफएसएल मधुबन के निदेशक का अतिरिक्त जिम्मा सौंपा गया है। वे अभी तक एडीजीपी दक्षिण रेंज थे। अंबाला पुलिस रेंज के एडीजीपी आलोक कुमार राय को एडीजीपी आधुनिक एवं कल्याण लगाया गया है। श्रीकांत जाधव को एडीजीपी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की अहम जिम्मेवारी दी गई है। फरीदाबाद पुलिस आयुक्त केके राव को गुरुग्राम पुलिस आयुक्त लगाया गया है। मुख्यमंत्री कार्यालय के स्पेशल पुलिस ऑफिसर ओपी सिंह को फरीदाबाद पुलिस आयुक्त लगाया गया है। नियुक्ति की इंतजार कर रहे विकास अरोड़ा को आईजी दक्षिण रेंज लगाया गया है। वाई.पूर्ण कुमार को आईजी अंबाला रेंज लगाया गया है। एचपीए मधुबन के एसपी कृष्ण मुरारी को एसपी पीटीसी सुनारिया की अतिरिक्त जिम्मेवारी दी गई है। संजय अहलावत को कमांडेंटआईआरबी भौंडसी लगाया गया है। अग्रवाल ने 30 जून की शाम को डीजीपी क्राइम का कार्यभार छोड़ दिया है। अब वे हरियाणा में अगला कार्यभार संभालेंगे।