G20 countries

मौजूदा चुनौतियों से पार पाने के लिये एकजुट होकर सहयोग करें जी-20 देश

जी20 के सदस्य देशों के नेताओं को एकता और सहयोग करके महामारी, जलवायु परिवर्तन और विकासशील देशों में अत्यधिक कर्ज का बोझ आदि धमकियों और चुनौतियों का संयुक्त सामना करना चाहिये। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने 20 नवंबर को इस बात की अपील की।

न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र के मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि वे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये 21 नवंबर से 22 नवंबर तक आयोजित जी20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। इस दौरान वे जी20 के सदस्य देशों के नेताओं को एक स्पष्ट संदेश भेजेंगे कि हमें एकता और सहयोग की जरूरत है।

महामारी-विरोधी मुख्य समस्याओं के बारे में एंटोनियो गुटेरेस ने अपील की कि जी20 के सदस्य देशों के नेताओं को डब्ल्यूएचओ के नेतृत्व में “एक्सेस टू कोविड-19 टूल्स एक्सिलेरेटर (एसीटी)” वैश्विक सहयोग पहल का पूर्ण समर्थन करना चाहिये। उन्हें इस योजना के लिये 28 अरब अमेरिकी डॉलर की मौजूदा निधि कमी को जल्दी से पूरा करना चाहिये। यह निधि दुनिया भर में संबंधित टीकों और उपकरणों के बडे पैमाने पर उत्पादन, खरीद और उद्धार करने के लिये बहुत महत्वपूर्ण है।

महामारी से विकासशील देशों के कर्ज की समस्या पर गुटेरेस ने अपील की कि नाजुक देशों को मुश्किलों से पार पाने में मदद करने के लिये जी20 के नेताओं को आईएमएफ के उपलब्ध वित्तीय संसाधनों में वृद्धि करनी चाहिये।
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)