Xinjiang

शिनच्यांग में स्थायी शांति से अमेरिकी राजनेताओं की साजिश विफल हुई

हाल में चीन ने तीसरी शिनच्यांग कार्य संगोष्ठी का आयोजन किया। चीनी नेता शी चिनफिंग ने भाषण देकर 2014 के बाद शिनच्यांग के आर्थिक व सामाजिक विकास में प्राप्त उपलब्धियों का सार पेश किया, नये युग में चीन की सत्तारुढ़ पार्टी के शिनच्यांग का प्रशासन करने की नीति पर प्रकाश डाला और शिनच्यांग की सामाजिक स्थिरता और स्थायी शांति को बनाए रखने को लेकर व्यापक तैनाती की। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के भाषण ने शिनच्यांग के भविष्य के विकास के लिए दिशा निर्धारित की, और स्थानीय जनता के और सुन्दर जीवन की खोज करने के विश्वास को मजबूत किया। साथ ही विश्व को यह भी जाहिर हुआ कि कुछ अमेरिकी राजनेताओं के कथाकथित शिनच्यांग मामले से चीन पर काबू करने की साजिश विफल हो चुकी है। 

लोगों ने ध्यान दिया कि हाल में अमेरिका के कुछ राजनेताओं ने घरेलू आम चुनाव के दबाव में मानवाधिकार के बहाने शिनच्यांग संबंधी झूठ फैलाया, चीन की शिनच्यांग नीति को बदनाम किया, शिनच्यांग की विकास उपलब्धियों की सच्चाई को मोड़ा। तो शिनच्यांग में विकास की स्थिति कैसी है? शी चिनफिंग ने अपने भाषण में आंकड़ों से आर्थिक विकास, जन-जीवन, गरीबी उन्मूलन, शिनच्यांग का समर्थन आदि चार क्षेत्रों में व्यापक सिंहावलोकन किया।

शिनच्यांग के विकास में प्राप्त उपलब्धियों ने फिर एक बार साबित किया कि चीनी सत्तारुढ़ पार्टी की शिनच्यांग प्रशासन नीति बिलकुल सही है। आतंकवादी से नुकसान पहुंचने वाला क्षेत्र होने के नाते शिनच्यांग में  स्थायी शांति उस के विकास की बुनियादी पूर्वशर्त है। शिनच्यांग में तीन साल से कोई हिंसक कार्यवाई नहीं हुईं। स्थानीय लोगों को स्थिरता से बड़ा लाभ मिला है। स्थानीय स्तंभ उद्योग पर्यटन उद्योग की मिसाल लें, 2019 में शिनच्यांग में देश-विदेश के कुल 21.3 करोड़ पर्यटक आए हैं। जबकि विकास शिनच्यांग में स्थायी शांति का महत्वपूर्ण आधार है। शिनच्यांग ने क्षेत्रीय श्रेष्ठता का प्रसार कर खुद के खुलेपन और देश के खुलेपन को घनिष्ट रूप से जोड़ा है। यह शिनच्यांग के भविष्य के विकास का अहम क्षेत्र है। 

लेकिन अमेरिका के कुछ राजनेताओं ने शिनच्यांग के विकास और उपलब्धियों को नहीं देखा। उन्होंने काला चश्मा लगाकर मानवाधिकार, जाति और धर्म के बहाने चीन की शिनच्यांग नीति पर आरोप लगाया। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने पहले ही साफ साफ देखा है कि शिनच्यांग सवाल का केंद्र है आतंकवाद विरोधी और विभाजन विरोधी समस्या है। अब तक 91 देशों के 1000 से ज्यादा लोगों को शिनच्यांग में आमंत्रित किया जा चुका है। उनका कहना है कि चीन में आतंकवाद विरोधी और उग्रवादी विरोधी अनुभव अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए सीखने योग्य हैं।

हाल में शिनच्यांग उइगुर स्वायत्त प्रदेश की विभिन्न जातियों के लोग अनार के बीजों की तरह इकट्ठा रहते हैं। कोई भी शक्ति उनकी सामाजिक स्थिरता और स्थायी शांति की खोज करने के कदम को नहीं रोक सकती है। एक समृद्ध व स्थिर शिनच्यांग सच्चाई है जिसे दुनिया देख सकती है।
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)