CM of Delhi and Punjab face to face

CM Kejriwal ने कृषि कानूनों को लेकर CM Captain को कहा- राजा साहिब, पंजाब के किसानों को धोखा मत दीजिए

नई दिल्लीः कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर जुबानी हमला किया है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार के कृषि कानूनों को निरस्त करते हुए पंजाब के लिए नया कानून पास किया है। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने इसी मुद्दे पर पंजाब सरकार और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर तंज कसा है। 

केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए और संसद में पारित किए गए कृषि कानून को निरस्त करने के लिए पंजाब विधानसभा में चार विधेयक सर्वसम्मति से पारित किए गए हैं। पंजाब विधानसभा द्वारा विधेयक पास करने पर अरविंद केजरीवाल ने कैप्टन अमरिंदर सिंह पर हमला बोला है।  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘‘राजा साहिब, आपने केंद्र के कानूनों को अमेंड (बदलाव) किया। क्या राज्य केंद्र के कानूनों को बदल सकता है, नहीं। आपने नाटक किया। जनता को बेवकूफ बनाया। आपने जो कानून पास किए, क्या उसके बाद पंजाब के किसानों को एमएसपी मिलेगा, नहीं। किसानों को एमएसपी चाहिए, आपके फर्जी और झूठे कानून नहीं।’’

 वहीं इससे पहले पंजाब विधानसभा द्वारा विधेयक पारित करने की निंदा को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि मैं आम आदमी पार्टी और अकाली दल के दोहरे मापदंडों से हैरान हूं। पंजाब सरकार के मुताबिक दिल्ली को भी पंजाब जैसे कानून लाने चाहिए ताकि केंद्रीय कृषि कानूनों के घातक प्रभावों को प्रभावहीन बनाया जा सके।  कुछ दिन पहले ही केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली के मुख्यमंत्री जंतर मंतर पर पहुंचे थे। यहां उन्होंने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। जंतर मंतर पर पंजाब से आए आम आदमी पार्टी समर्थक किसान भी पहुंचे थे। 

यहां मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘‘2014 में जब बीजेपी वाले वोट मांगने आए थे तब बोले थे कि हम स्वामिनाथन रिपोर्ट लागू करेंगे, एमएसपी 1.5 गुना लागत का देंगे। लेकिन इन्होने चुनाव जीतने के बाद एमएसपी ही खत्म कर दी।’’  केजरीवाल ने कहा, ‘‘वो कहते हैं पूरे देश में सिर्फ 6 फीसदी किसानों की फसल एमएसपी पर खरीदी जाती है, इसका मतलब एमएसपी बंद थोड़े कर देंगे। 6 फीसदी की ही फसल एमएसपी पर खरीद रहे हैं तो लानत है तुम्हारी सरकारों पर।’’